महा कुंभ से होगा सरकार को कारोड़ो रूपए का लाभ,CII के द्वारा जारी की रिपोर्ट। …

आपके अपने वेब पोर्टल ड्रेस प्लेनेट में हार्दिक सवागत है, मित्रों इस बात से तो आप सभी भली भांति अवगत ही होगें कि इस बार इस बार महा कुंभ मेले के आयोजन के लिए उत्‍तर प्रदेश सरकार ने पहले से तीन गुना राशि यानी 4200 करोड़ रुपए आवांटित किए है, जिसके चलते हर और माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की हर और उनकी सरकार की प्रशंशका हो रही है और ये खबरे चर्चा का विषय बनी हुई है, वहीं भारतीय उद्ययोग परिसंघ ने अनुमान लगाया है कि इस कुंभ के आयोजन से उत्‍तर प्रदेश सरकार को 1200 अरब रूपये का राजस्‍व मिलने की संभावना है, ऐसे में यह कहना गलत नही होगा कि प्रयागराज महा कुंभ से योगी जी सरकार का खजाना भर जाएगा और इससे उत्तर प्रदेश सरकार और योजनाओ के तहत काम में लगाया जाएगा !

यह हम आपको बताना चाहते है की वैसे तो 15 जनवरी से 4 मार्च तक आयोजित होने वाले महा कुंभ मेले में धार्मिक और आध्यात्मिक आयोजन है, पर इसके आयोजन से जुड़े कार्यों में 7 लाख से अधिक लोगों के लिए रोजगार उत्पन्न हो रहा है,अधिक जानकारी के लिए बता दें कि सोमवार को पौष पूर्णिमा के अवसर पर प्रयागराज कुंभ में 55 से 75 लाख श्रद्धालुओं के गंगा में डुबकी लगाने का अनुमान लगाया गया है, इस बीच भारतीय उद्योग परिसंघ ने अनुमान लगाया है कि इस महा कुंभ के आयोजन से उत्तर प्रदेश सरकार को अधिक से अधिक लाभ होने वाला है, हलाकि योगी सरकार ने भी 50 तक चलने वाले कुंभ मेले के आयोजन को लेकर 4200 करोड़ रुपए की धनराशि आंवटित कर दी है, इसी के साथ संस्था ने बताया है की इससे योगी सरकार को जो लाभ होगा वे उसे की योजनाओ में खर्च क्र सकते है !

यहाँ हम आपकी अधिक जानकारी के लिए बता दें कि CII की रिपोर्ट के अनुसार प्रयागराज में महा कुंभ मेले के दौरान लग भग ढाई लाख लोग आतिथ्य क्षेत्र में जॉब मिलेगा, वहीं एयरलाइंस और हवाई अड्डों के आस-पास से लग भग डेढ़ लाख लोगों को रोजी-रोटी लिम सकेगी, जबकि सम्भवता 45,000 टूर ऑपरेटरों को भी कुंभ के दौरान रोजगार मिलेगा, साथ ही इको टूरिज्म और मेडिकल टूरिज्म क्षेत्रों में भी लगभग 85,000 रोजगार के अवसर बनेंगे, इसके अतिरिक्‍त टूर गाइड टैक्सी चालक और स्वयंसेवकों के तौर पर रोजगार के 55 हजार नए अवसर भी उपलब्ध होंगे, इससे सरकारी एजेंसियों और वैयक्तिक कारोबारियों की आय बढ़ेगी.

हालांकि इस महा कुम्भ के मेले के आयोजन से पड़ोस के राज्य राजस्थान, उत्तराखंड, पंजाब और हिमाचल प्रदेश को भी लाभ मिल सकेगा, क्योंकि महा कुंभ मेले में आए पर्यटक इन राज्यों के पर्यटन स्थलों पर भी जा सकते हैं, कुंभ मेले में करीब 15 करोड़ लोगों के आने की संभावना है, दुनिया का यह सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन पूरी दुनिया में अपनी आध्यात्मिकता और विलक्षणता के लिए जाना जाता है, इसी के चलते 2019 लोक सभा चुनाव में इस महा कुम्भ का बहुत ही प्रभाव माना जा रहा है जिससे की योगी जी को स्टार्ट प्रचारक के रूप में हर राज्यों में उनकी रैली स्वाभाविक है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *